Pride Of Maharashtra

CALL US : 8983441421

Untitled (900 × 150 px) (900 × 300 px)

Gems of Maharashtra, their inspiring stories – a digital data.

social

राजा…

ये हैं असली ‘हीरो’

ये स्टोरी है नागपुर के राजा की, जो राजकपूर के जबरा फैन थे। राज जी से इंस्पायर होकर 20 साल की उम्र में  हीरो बनने मुंबई पहुंचे। बहुत स्ट्रगल करने के बाद छोटा सा काम मिला एक्टर्स को हिन्दी में सही तरीके  से डॉयलॉग बुलवाने का। थोड़े दिन बाद आर.के. स्टूडियो में काम मिल गया। वहां इनकी भगवान दादा से दोस्ती हो गई। ये वही भगवान दादा हैं जिनकी डांस की नकल अमिताभ बच्चन किया करते हैं- ऐसा कहा जाता है।

खैर, भगवान दादा ने राजा की दोस्ती फिल्म डायरेक्टर जागीरदार से करवाई। जागीरदार इनसे बहुत प्रभावित हुए। उन्होंने राजा को एक फिल्म की कहानी लिखने का ऑफर दिया। कहानी पढ़कर जागीरदार ने फिल्म बनाने का फैसला किया। फिल्म का नाम रखा गया ‘बहू’। जागीरदार ने राजा को ही फिल्म का हीरो बनाया। कुछ रील बनने के बाद फिल्म रूक गई। वजह आर्थिक हालत खस्ता। राजा का संघर्ष फिर शुरू हो गया। बहुत संघर्ष के बाद जब कुछ हाथ नहीं लगा तो वो घर लौट आए। परिवार वाले पहले से ही नाराज थे। उन्होंने कोई मदद नहीं की। राजा ने नागपुर आकर टयूशन शुरू की और मॉरिस कॉलेज में एडमिशन लिया।  समय का खेल देखिए राजा को बीए और एमए में गोल्ड मेडल मिला। उन्होंने कई रिकार्ड तोड़े। उनका चयन आईएएस के लिए हो गया। वे मध्यप्रदेश में कई जगह कलेक्टर के पद पर रहे। उन्हें कई अवार्डों से नवाजा गया।  वे एक दबंग अधिकारी के रूप में आज भी याद किए जाते हैं। हालांकि अब वे इस दुनिया में नहीं है। लेकिन उनकी ये स्टोरी आज भी रास्ता दिखाती है।

धोखा हुआ पर, हिम्मत नहीं हारी

सचिन्द्र शर्मा खुद भी स्ट्रगलर रहे हैं। 21 साल की उम्र में छोटी-छोटी हथेलियों में बड़े-बड़े सपने लेकर मुंबई पहुंचे। दूसरे ही दिन एक फिल्म में छोटा सा रोल भी मिल गया। लगने लगा अब सपने सच हो जाएंगे। लेकिन उनके सारे सपने टूट गए। स्ट्रगल का लंबा दौर शुरू हुआ पर उन्होंने  हिम्मत नहीं हारी। बॉलीवुड में अपना मुकाम बनाया। आज वे एक सफल प्रोडयूसर और डायरेक्टर हैं।

स्टोरी खुद सचिन्द्र शर्मा की है। उनके साथ कैसे धोखा हुआ,  उन्हीं की जुबानी-आधी रात को मैं मुंबई के एक स्टेशन पर उतरा। मेरी जेब में 5 हजार रूपए थे। सुबह मुझे जानकारी मिली की एक जगह पर शूटिंग चल रही है। मैं वहां पहुंच गया और डायरेक्टर से मिला। उन्होंने मुझे बैठने के लिए कहा। थोड़ी देर में एक लड़का आया और बोला तुमको डायरेक्टर साहब ने बुलाया है।पता चला कि एक आर्टिस्ट नहीं आया है जिसके कारण शूटिंग रूकी हुई है। डायरेक्टर ने मुझसे पूछा तुम काम करोगे, मैंने तुरंत हामी भर दी। मैं खुशी-खुशी घर लौट आया। अखबारों में फिल्म के बारे में पढ़ा। बहुत दिन बीत गए पर फिल्म रिलीज नहीं हुई। जब मैंने इस बारे में डायरेक्टर से पूछा तो वे बोले घर से रूपए मंगाओ । फेम के लिए रूपए तो खर्च करने ही पड़ेंगे। मैंने तुरंत 4 हजार रूपए दे दिए। बाद में पता चला कि माजरा कुछ और ही था। खैर बचे 1 हजार रूपए से मैंने कैसे दिन काटे, मैं ही जानता हूं, लेकिन हिम्मत नहीं हारी और आज इस मुकाम पर हूं।

स्ट्रगल को सक्सेस स्टोरी बनाएगा ‘बॉलीवुड कॉलिंग’

स्ट्रगलर के दर्द को सचिन्द्र से अच्छा भला कौन समझ सकता है। उनके मन में बहुत दिनों से स्ट्रगलरर्स के लिए कुछ करने की इच्छा थी। लेकिन सवाल यह था कि ऐसा क्या करें जिससे स्ट्रगलरर्स को मुंबई आने के बाद धक्के ना खाना पड़े और मंजिल भी मिल जाए। आखिर उन्हें एक आइडिया सूझा। क्यों ना इनके लिए एक प्लेटफार्म बनाया जाए। बस….यहीं से शुरू हुआ ‘बॉलीवुड कॉलिंग’ का सफर। महाराष्ट्र खबर 24 से बातचीत करते हुए प्रोडयूसर व डायरेक्टर  सचिंद्र शर्मा ने कहा कि फिल्मों में काम करने की इच्छा लिए हर दिन , हजारों लोग यह आजमाने के लिए इस शहर का रुख करते हैं कि क्या उनकी किस्मत सिनेमा की दुनिया में उन्हें चमक दिलाएगी? पर अधिकांश लोग असफल हो जाते हैं। संघर्ष से घबराकर खाली हाथ घर भी लौट जाते हैं। कोई फ्रॉड का शिकार हो जाता है। कोई  गलत रास्ता पकड़ लेता है। ऐसे ही कई प्रतिभाएं दम तोड़ देती हैं। इसका सिर्फ एक ही कारण होता है सही मार्गदर्शन और सही जानकारी का ना होना। इसलिए हमने तय किया कि ‘बॉलीवुड कॉलिंग’ के प्लेटफार्म से फिल्म पटकथा, अभिनय, निर्देशन, मॉडलिंग, डान्सिंग, गीत-संगीत और पोस्ट प्रोडक्शन से जुड़ी अहम जानकारियां दी जाएं। ताकि स्ट्रगलर अपने संघर्ष को सक्सेस स्टोरी बना सके। सीनियर जर्नलिस्ट ज्योति वेंकटेश कहते हैं नए लोगों को कोई जानकारी नहीं होती। इसलिए वे भटक जाते हैं। हम उन्हें सही रास्ता दिखाकर उनका करियर खराब होने से बचाना चाहते हैं।

रेणुका बिडकर

दिव्यांगों की मसीहा

गर मजबूत इरादे और बुलंद हौसले दिल में हों तो उस व्यक्ति का रास्ता मौत भी नहीं रोक सकती. लाखों महिलाओं से हटकर रेणुका ऐसी ही एक महिला हैं जिन्होंने न केवल खुद की एक स्वतंत्र पहचान बनाई बल्कि सैकड़ों दिव्यांगों को मदद व रोजगार की राह दिखाकर उनके दिलों में जगह भी बनाई. रेणुका एक महिला ही नहीं अपने आप में एक संस्था भी है. शरीर से दिव्यांग लेकिन इरादों से मजबूत.उनकी कहानी में फूल भी हैं तो कांटे भी. रोमांच है तो दर्द भी और खुशी है तो गम भी. जिस प्रकार जनकनंदिनी सीताजी के नसीब में राजवैभव के साथ वनवास का दु:ख भी लिखा था , वैसी ही रेणुका की कहानी है. वे कहती हैं – मेरी जिंदगी खुली किताब है. कोई छिपा राज नहीं है. कल खुशनुमा गुलशन था , अफसोस वह आज नहीं.  

बैसाखियां बनीं सहारा

रेणुका जब मात्र एक साल की थीं तब दुर्भाग्य से वे पोलियो  और पैरालिसिस का शिकार हो गईं. जब वे बड़ी हुईं तो जिद्दी रेणुका ने हार नहीं मानी और ना ही अपनी हिम्मत को पस्त होने दिया. माता-पिता के स्नेह, प्यार और उनके आशीर्वाद से रेणुका ने दोनों कंधों को बैसाखी पर रखा और निकल पड़ी अपनी शिक्षा की राह पर. यह बैसाखियां 28/29 की आयु तक नहीं छूटी और उनके ही सहारे उन्होंने धनवटे नेशनल कॉलेज से.बीकॉम की डिग्री हासिल की. इसके बाद सायकोलॉजी में एमएस की शिक्षा पूर्ण की.

समाज सेवा का संकल्प

गोस्वामी तुलसीदास जी की पंक्तियां हैं -“जाके पांव न फटी बिवाई,सो का जाने पीर पराई.” अर्थात,जिसने कभी दर्द ही ना सहा हो वह दूसरों की पीड़ा को कैसे जान सकता है. शरीर से दिव्यांग रहने से किस तरह की परेशानियों से गुजरना पड़ता है, यह रेणुका भली-भांति जानती हैं.

 रेणुका के मन में दिव्यांगों, दृष्टिहीनों और मूक – बधिर जैसे लोगों के प्रति ऐसी सहानुभूति जागी कि उन्होंने उनके उद्धार व मदद हेतु समाजसेवा का संकल्प ले लिया. टाइपिंग व कंप्यूटर में दक्ष रेणुका एक बेहतरीन काउंसलर भी हैं. इस काउंसलिंग का उन्होंने अपनी समाजसेवा में उपयोग कर अनेक दिव्यांग, बेरोजगारों, महिलाओं का मार्गदर्शन किया. समाजसेवा को एक मंच मिले, अतः उन्होंने अपनी प्यारी बेटी विरजा के नाम पर ‘विरजा अपंग उत्थान संस्था’ ” 2005 में स्थापित की. यह आज भी अपने अस्तित्व में है. लंबे समय से अस्वस्थ रहने की वजह से वे संस्था के लिए काम नहीं कर रही हैं. शरीर से करीब 88 % डिसेबल रहने के बावजूद रेणुका ने अप्लास्टिक व एनीमिया जैसी बड़ी बीमारी से जूझकर अपनी माता आशा देवी के नाम पर ‘आशादीप गृह उद्योग की संकल्पना को साकार किया. आज यह संस्था उनकी व अन्य जरूरतमंद महिलाओं के लिए आशा की किरण बनी हुई है. उनके जीवन का बस एक ही मकसद है कि अंतिम सांस तक वे दिव्यांगों की सेवा व मदद कर सकें और उन्हें आत्मनिर्भर बना सकें. शरीर से अपाहिज पर इरादों से मजबूत रेणुका की जिंदगी  उतार-चढ़ाव और संघर्षों से भरी रही, लेकिन उनके सुन्दर चेहरे पर दिखने वाली छिपी मुस्कान के दर्द को भला उनसे बेहतर और कौन एहसास कर सकता है? रेणुका पर यह पंक्तियां सटीक बैठती हैं…

” ऐ मौत तू फिर कभी आना,

अभी तो जिंदगी जीना बाकी है.

 दर्द और गम के अंधेरे ही देखे हैं.

 खुशियों का उजाला अभी बाकी है.

जीवन परिचय
नाम : रेणुका गुलाबराव बिडकर
जन्मतिथि : 29.5.72
मोबाइल नं. : 9834434781,9823917772
ई- मेल : vausnagpur@gmail.com
पता : प्लॉट नं. एफ-11, प्रतिभा अपार्टमेंट, लक्ष्मीनगर, नागपुर-440022
शैक्षणिक योग्यता :
1.एम.एस. (साइकलॉजी)
2.डिप्लोमा इन कम्प्यूटर
अनुभव :
1.महिला सहकारी बैंक में कम्प्यूटर ऑपरेटर का काम किया.
2.होटल सेंटर पाइंट में टेलीकॉलर के रूप में काम
3.रिजाइस काउंसलिंग सेंटर में काउंसलर रहीं.
उपलब्धियां
1.विरजा अपंग संस्था व आशादीप गृहउद्योग की स्थापना .
2. मूक – बघिर बच्चों की शादियां करवाई.
3. 40 दिव्यांग बच्चों को कंपनियों में नौकरी दिलवाई.

किरण श्रीवास्तव

छू लिया सफलता का शिखर

मारे समाज में महिला अपने जन्म से लेकर मृत्यु तक एक अहम किरदार निभाती है. वह अपनी सभी भूमिकाओं में निपुणता दर्शाने के बावजूद आज के आधुनिक और विकसित युग में पुरुष से पीछे खड़ी दिखाई देती है. पुरुष प्रधान समाज में महिला की योग्यता को कम आंका जाता है.महिला को अपनी जिंदगी का ख्याल तो रखना ही पड़ता है, साथ ही पूरे परिवार के छोटे से लेकर बड़े सदस्यों का भी ध्यान रखना पड़ता है. वह पूरी जिंदगी बेटी, मां, बहू, पत्नी, सास, दादी, नानी जैसे रिश्तों को पूरी ईमानदारी से निभाती है. कामकाजी महिलाओं को तो घर व बाहर की जिम्मेदारियों के बीच पिसना पड़ता है, वहीं दूसरी ओर ऐसी भी महिलाएं हैं,जिन्होंने विपरीत हालातों का डटकर मुकाबला किया और अपने पैरों पर खड़े होकर समाज व अन्य निराश महिलाओं की प्रेरणा स्रोत बन गईं. महाराष्ट्र के अकोला शहर की निवासी श्रीमती किरण अश्विन श्रीवास्तव एक सफल उद्योजिका और कुशल गृहिणी हैं. उनकी सफलता के पीछे एक लंबा संघर्ष है, जिसमें मुस्कान, खुशी के साथ एक ऐसा दर्द भी छिपा है जिसे सुनकर कुछ पल के लिए महलों में रहने वाली जनकनंदिनी व भगवान श्रीराम की पत्नी माता सीता द्वारा भोगा हुआ वनवास याद आ जाएगा. आंशिक रूप से एक पैर से अपंग किरण के दर्द को सिर्फ ईश्वर ही जानते हैं. मध्यप्रदेश के मंदसौर में जन्मी किरण अपने जीवन के 51 बसंत देख चुकी हैं.उनकी प्रारंभिक शिक्षा इंदौर में हुई और ग्रेजुएशन करने के बाद उनका विवाह अकोला के डॉक्टर रामप्रसाद श्रीवास्तव के द्वितीय सुपुत्र अश्विन श्रीवास्तव के साथ हुआ. भरापूरा और संपन्न परिवार पाकर किरण की खुशियों का ठिकाना ना था. घर में नौकर चाकर भी थे और पति का भी कॉस्मेटिक का व्यापार था. सब कुछ अच्छा चल रहा था, लेकिन सारी खुशियों पर उस वक्त ग्रहण लग गया, जब उनके ससुर व परिवार के आधार स्तंभ डॉक्टर रामप्रसाद जी का देहावसान हो गया.

लाखों की संपत्ति का उनकी संतानों में बंटवारा हो गया. पति का कारोबार और किरण का ब्यूटी पार्लर भी बंद करने की नौबत आ गई. मजबूरन किरण को अपने पति व सास के साथ अकोला शहर से चार-पांच किलोमीटर दूर ससुराल के खेत में बने छोटे से मकान में भारी मन से शिफ्ट होना पड़ा. दो बेटियां, एक बेटा, पति व सास सहित छह लोगों के परिवार की देखभाल व पालन पोषण की जवाबदारी अब पति अश्विन और किरण के कंधों पर आ गई. हालातों से लड़ते हुए दोनों बच्चियों के हाथ पीले कर दिए. इस बीच ससुर द्वारा खरीदे गए प्लाट्स और मकान का हिस्सा छोड़कर पूरा खेत भी बिक गया. किरण ने हिम्मत नहीं हारी और अपने आंसुओं को दबाकर अपने हौसले को बरकरार रखा.


संघर्ष और अलगाव से सामना

कांटो के बीच खिलने वाले फूल की भांति एक ओर रिश्तों की अहमियत तो दूसरी ओर परिवार के खर्चे. पति भी हमेशा तनाव में रहते पति ने अपना गम व तनाव भुलाने के लिए कुछ व्यसनों की राह पकड़ ली और एक मस्त मौला फकीर की तरह स्वभाव बना लिया. किरण ने ऐसे सभी हालातों का डटकर सामना करने का मन ही मन संकल्प लिया और अपने दिल के जख्मों को दबाकर फैसला किया कि रोने से या किस्मत को दोष देने से कुछ हासिल नहीं होगा, इसलिए खुद अपने पैरों पर खड़े होने का निर्णय लिया.
” चलने की कोशिश तो करो,
यहां दिशाएं बहुत हैं.
रास्ते के कांटों से मत डरो,
आपके साथ दुआएं बहुत हैं. “

बस अपनों की दुआएं और हिम्मत जुटाकर किरण ने एक किराए की छोटी सी दुकान ली और कुछ पास की जमा पूंजी से बच्चों और महिलाओं के परिधानों की बिक्री शुरू की. आंखों में दबे आंसू और दिल में हौसला रखते हुए किरण रोज घर के काम निबटाकर तैयार होती और दो ऑटो बदलकर घर से करीब 10 किलोमीटर दूर अपनी शॉप पर जातीं और वापस शाम 7:00 बजे दुकान बढ़ाकर 10 किलोमीटर वापस सिवनी आतीं और आकर घर की सारी जवाबदारी निभातीं. यह सिलसिला कई माह तक चला.

वक्त ने करवट ली और पति अश्विन श्रीवास्तव ने अपने पुराने टेक्निकल हुनर को एक नये कारोबार में आजमाने का अच्छा निर्णय लिया. उनके पति ने इसके पूर्व गुरुदेव एजेंसी के नाम से जॉब प्लेसमेंट सर्विस अकोला शहर में सबसे पहले शुरू की थी, जिससे सैकड़ों लोगों को रोजगार मिला था, यह किरण जानती थीं. पति के मार्गदर्शन में घर से ही भवन निर्माण में उपयोगी मशीनें, छोटे- बड़े उपकरण, औजार आदि किराए पर देना शुरू किया. किरण ने अपने पति का पूरी शिद्दत से साथ दिया. दोनों की मेहनत रंग लाई और कारोबार चल निकला, अच्छी आय भी होने लगी, लेकिन बीच – बीच में पति-पत्नी में अनबन शुरू रही. कोरोना काल में तो कारोबार डगमगा भी गया. 2-4 बार तो गुस्से में आकर वे मायके भी चली गईं और एक बार तो पति भी घर छोड़कर चले गए. इसके बावजूद दोनों के बीच सारे मनमुटाव दूर हुए और फिर दोनों एक हुए. आज वे अपने पति के कंधे से कंधा मिलाकर अपना कारोबार बखूबी संभाल रही हैं और पारिवारिक जिम्मेदारियों को भी निभा रहीं हैं. आज उनके पास ऐसे सैकड़ों कांट्रेक्टर हैं, जो पहले हेल्पर के रूप में किसी ठेकेदार के पास काम करते थे, पर आज वे खुद ठेकेदार हैं. किरण व उनके पति अश्विन को इस बात की खुशी है की उनका यह कारोबार लोगों को रोजगार दे रहा है और उनके परिवार के सदस्यों को दो वक्त का खाना और सारी जरूरतें पूरी कर खुशियां दे रहा है. किरण का मानना है कि, सारी दुनिया आपके सामने झुके ऐसी दुआ कभी मत मांगना, लेकिन दुनिया की कोई ताकत आपको झुका ना सके, यह दुआ जरूर मांगना. वे अपना अनुभव बताते हुए कहती हैं कि, कुछ घटनाएं हमारे जीवन में सिर्फ परीक्षाएं लेने नहीं आतीं बल्कि हमारे साथ जुड़े हुए लोगों का असली परिचय करवाने के लिए आतीं हैं.अगर खुशियां बांटेंगे तो हज़ार गुना खुशियां आपको मिलेंगी.
किरण अश्विन श्रीवास्तव.
सिवनी, जिला अकोला (महाराष्ट्र )
मोबा.8855901881

रेणुका बिडकर

दिव्यांगों की मसीहा

गर मजबूत इरादे और बुलंद हौसले दिल में हों तो उस व्यक्ति का रास्ता मौत भी नहीं रोक सकती. लाखों महिलाओं से हटकर रेणुका ऐसी ही एक महिला हैं जिन्होंने न केवल खुद की एक स्वतंत्र पहचान बनाई बल्कि सैकड़ों दिव्यांगों को मदद व रोजगार की राह दिखाकर उनके दिलों में जगह भी बनाई. रेणुका एक महिला ही नहीं अपने आप में एक संस्था भी है. शरीर से दिव्यांग लेकिन इरादों से मजबूत.उनकी कहानी में फूल भी हैं तो कांटे भी. रोमांच है तो दर्द भी और खुशी है तो गम भी. जिस प्रकार जनकनंदिनी सीताजी के नसीब में राजवैभव के साथ वनवास का दु:ख भी लिखा था , वैसी ही रेणुका की कहानी है. वे कहती हैं – मेरी जिंदगी खुली किताब है. कोई छिपा राज नहीं है. कल खुशनुमा गुलशन था , अफसोस वह आज नहीं.    

बैसाखियां बनीं सहारा

 रेणुका जब मात्र एक साल की थीं तब दुर्भाग्य से वे पोलियो  और पैरालिसिस का शिकार हो गईं. जब वे बड़ी हुईं तो जिद्दी रेणुका ने हार नहीं मानी और ना ही अपनी हिम्मत को पस्त होने दिया. माता-पिता के स्नेह, प्यार और उनके आशीर्वाद से रेणुका ने दोनों कंधों को बैसाखी पर रखा और निकल पड़ी अपनी शिक्षा की राह पर. यह बैसाखियां 28/29 की आयु तक नहीं छूटी और उनके ही सहारे उन्होंने धनवटे नेशनल कॉलेज से.बीकॉम की डिग्री हासिल की. इसके बाद सायकोलॉजी में एमएस की शिक्षा पूर्ण की.

समाजसेवा का संकल्प

 गोस्वामी तुलसीदास जी की पंक्तियां हैं -"जाके पांव न फटी बिवाई,सो का जाने पीर पराई."
 अर्थात,जिसने कभी दर्द ही ना सहा हो वह दूसरों की पीड़ा को कैसे जान सकता है. शरीर से दिव्यांग रहने से किस तरह की परेशानियों से गुजरना पड़ता है, यह रेणुका भली-भांति जानती हैं.
 रेणुका के मन में दिव्यांगों, दृष्टिहीनों और मूक - बधिर जैसे लोगों के प्रति ऐसी सहानुभूति जागी कि उन्होंने उनके उद्धार व मदद हेतु समाजसेवा का संकल्प ले लिया. टाइपिंग व कंप्यूटर में दक्ष रेणुका एक बेहतरीन काउंसलर भी हैं. इस काउंसलिंग का उन्होंने अपनी समाजसेवा में उपयोग कर अनेक दिव्यांग, बेरोजगारों, महिलाओं का मार्गदर्शन किया. समाजसेवा को एक मंच मिले, अतः उन्होंने अपनी प्यारी बेटी विरजा के नाम पर 'विरजा अपंग उत्थान संस्था' " 2005 में स्थापित की. यह आज भी अपने अस्तित्व में है. लंबे समय से अस्वस्थ रहने की वजह से वे संस्था के लिए काम नहीं कर रही हैं. शरीर से करीब 88 % डिसेबल रहने के बावजूद रेणुका ने अप्लास्टिक व एनीमिया जैसी बड़ी बीमारी से जूझकर अपनी माता आशा देवी के नाम पर 'आशादीप गृह उद्योग की संकल्पना को साकार किया. आज यह संस्था उनकी व अन्य जरूरतमंद महिलाओं के लिए आशा की किरण बनी हुई है. उनके जीवन का बस एक ही मकसद है कि अंतिम सांस तक वे दिव्यांगों की सेवा व मदद कर सकें और उन्हें आत्मनिर्भर बना सकें. शरीर से अपाहिज पर इरादों से मजबूत रेणुका की जिंदगी  उतार-चढ़ाव और संघर्षों से भरी रही, लेकिन उनके सुन्दर चेहरे पर दिखने वाली छिपी मुस्कान के दर्द को भला उनसे बेहतर और कौन एहसास कर सकता है? रेणुका पर यह पंक्तियां सटीक बैठती हैं...
" ऐ मौत तू फिर कभी आना,
अभी तो जिंदगी जीना बाकी है.
 दर्द और गम के अंधेरे ही देखे हैं.
 खुशियों का उजाला अभी बाकी है."
नाम : रेणुका गुलाबराव बिडकर
जन्मतिथि : 29.5.72
मोबाइल नं. : 9834434781,9823917772
ई- मेल : vausnagpur@gmail.com
पता : प्लॉट नं. एफ-11, प्रतिभा अपार्टमेंट, लक्ष्मीनगर, नागपुर-440022
शैक्षणिक योग्यता :
1.एम.एस. (साइकलॉजी)
2.डिप्लोमा इन कम्प्यूटर
अनुभव :
1.महिला सहकारी बैंक में कम्प्यूटर ऑपरेटर का काम किया.
2.होटल सेंटर पाइंट में टेलीकॉलर के रूप में काम.
3.रिजाइस काउंसलिंग सेंटर में काउंसलर रहीं.
उपलब्धियां
1.विरजा अपंग संस्था व आशादीप गृहउद्योग की स्थापना .
2. मूक – बघिर बच्चों की शादियां करवाई.
3. 40 दिव्यांग बच्चों को कंपनियों में नौकरी दिलवाई.